सबको अपने बच्चे ,
सबसे प्यारे सबसे न्यारे
लगते है,
अपनी जान से ज़्यादा  प्यारे होते  है |
                    दिन – रात मेहनत करते है ,
                    हम उनकी खुशियो के लिए |
फिर क्यों ,
बेवजह की रोक कायदों की जंजीरो से
जकड़ते हो |
टॉपर या अच्छे माकर्स का प्रेशर डालकर
उनका बचपन छीनते हो |
                          अगर माहिर नहीं है,
                           वो किसी काम में
                           तो उनकी छिपी चाहत अरमानो को
                          दिल की गहराई से समझो |
  प्रेशर डालकर
उनके चेहरे की मुस्कान और
अपने जीने की वजह
क्यों छीनते हो |

पैसो और नाम के पीछे इतना मत भागो |
कि बच्चे बुराई में गुमनाम हो जाये |
फिर उन्हें सभालना
मुश्किल ही नहीं
नामुमकिन हो जाये |
                                एक दोस्त बनकर कुछ समय
                               अपने बच्चे के साथ बिताये |
                               एक दिन उनके जैसा
                               उनके साथ जीये |
                              उनकी बातें दिल से सुने,
                              उनके सपनो को सँवारे |

गिर – गिर कर चलने दो |
अपने रास्ते खुद चुनने दो
बस एक दोस्त बनकर
सभालना है उनको | 
     अपने प्यारे बच्चो का
     साथ देना है हमको |

                               

                             
               
   

deepakaneriya

I am a Hindi blogger

Leave a Reply