भारत की पहली महिला सरपंच छवी राजावत

सरपंच छवी राजावत ने कर दिखाया वो काम जो आम इंसान नहीं कर सकता शहर छोड़कर सवारा अपना गांव अपनी पहचान बनाई गांव से 






भारत की पहली महिला सरपंच छवी राजावत

उन्हें सरपंच का पद संभालने वाला सबसे कम उम्र का व्यक्ति बताया गया है 
छवी राजावत जयपुर से 60 किलोमीटर (37 मील) दूर अपने गाँव सोडा की सरपंच हैं  
छावी राजावत अपना समय अपने गाँव, सोडा और जयपुर के बीच बाँटती हैं जहाँ वह अपने माता-पिता के साथ रहती हैं।


छावी राजावत, आंध्र प्रदेश के ऋषि वैली स्कूल में पढ़ेराजस्थान में मेयो कॉलेज गर्ल्स स्कूल और दिल्ली में लेडी श्रीराम कॉलेज  श्री बालाजी सोसाइटी पुणे से एमबीए करने के बाद, उन्होंने टाइम्स ऑफ़ इंडिया, कार्लसन ग्रुप ऑफ़ होटल्स, एयरटेल, इत्यादि जैसी कंपनियों के लिए काम किया। आज, वह टोंक जिले, राजस्थान के सोडा गाँव में सरपंच (ग्राम परिषद की निर्वाचित प्रमुख) हैं। और, एमबीए की डिग्री के साथ भारत की पहली महिला सरपंच हैं। 


राजावत ने ग्रामीण भारत के विकास में मदद करने के लिए अपनी कॉर्पोरेट नौकरी और शहर का जीवन छोड़ दिया। वह राजस्थान के जयपुर से साठ किलोमीटर दूर एक गाँव सोडा की सरपंच (एक गाँव की प्रमुख) बनी  उनके दादा ब्रिगेडियर रघुबीर सिंह छावी के चुनावों से 20 साल पहले उसी गाँव के सरपंच रहे थे। वह लोगों से मिलने में बहुत अच्छी है और वह सोडा गांव के विकास का नेतृत्व कर रही है। गाँव की सरपंच बनने के बाद, उसने कई परियोजनाओं को सफलतापूर्वक लागू किया है अर्थात वर्षा जल संचयन, अधिकांश घरों में शौचालय की सुविधा, आदि 
भारत का एक प्रमुख अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया , ग्रामीण राजस्थान के बदलते चेहरे के रूप में उन्हें श्रेय देता है। 




25 मार्च 2011 को, राजावत ने संयुक्त राष्ट्र में आयोजित 11 वें इन्फोपेर्टी वर्ल्ड कॉन्फ्रेंस में प्रतिनिधियों को एक अच्छी तरह से संबोधित किया   

deepakaneriya

I am a Hindi blogger

Leave a Reply