आज में आपको दुनिया की सबसे अमीर लेखिका जे. के. रोलिंग
के बारे में बताने जा रही हूँ जो “हैरी पॉटर ” प्रकाशित होने से पहले गरीब थीं।

 और आज चैरिटी की वजह से मशूहर हो रही है | 


रोलिंग अपनी नई बुक को ऑनलाइन लाई हैं | फेयरी टेल ” इकाबोग ” को इंटरनेट पर मुफ्त में पढ़ा जा सकता है | 
रोलिंग इसके एक के बाद चैप्टर रिलीज कर रहीं हैं और इसकी रॉयल्टी को वे कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए देगी | 

रोलिंग कहती हैं ,

जब हमे ज़रूरत से ज्यादा मिलता है 
तो यह हमारा नैतिक उत्तर दायित्व होता है
 कि हम समझदारी और बुद्धिमता से उसका प्रयोग करे | 


जे. के. रोलिंग (en:J. K. Rowling, Joanne Rowling जोन रोलिंग, उर्फ़ Joanne Kathleen Rowling जोन कैथलीन रोलिंग) आज के ज़माने की सबसे मशहूर लेखिकाओं में से एक हैं। अंग्रेज़ी में लिखा उनका उपन्यास-क्रम हैरी पॉटर इक्कीसवी सदी का शायद सबसे मशहूर उपन्यास है।
जे. के. रोलिंग को चौदह साल की उम्र तक किताब पढ़ना बहुत पसंद नहीं था जो स्कूल के लिए अनिवार्य था, उन्होंने वह पढ़ा, लेकिन इससे ज़्यादा कुछ नहीं। लेकिन जब उनकी सहेली ने “जादूगरों और चुड़ैलों” की किताब उन्हें दी तो यह बुरी हालत एकदम बदल गयी। उन्होंने किताब पढ़ना शुरू कर दिया। वह किताब “हैरी पौटर” का पहला खंड था। इसके बाद लगभग हर एक साल एक-एक “हैरी पौटर” की किताब प्रकाशित हुई। उस समय उन्होंने पूरा दिन अपने कमरे में बिताया और बहुत उत्सुकता से उन्होने पढ़ा। शुरू में कुछ लिखकर-पढ़कर उन्हें बड़ी सफलता नहीं मिली, फिर बाद में यह हालत अचानक बदली और वे बड़ी लेखिका बन गयी।
जे. के. रोलिंग का असली नाम जोआन मुर्रय है, जिसका इस्तेमाल वे निजी जीवन में करती हैं। उनका जन्म 31 जुलाई 1965 को इंग्लैण्ड के येट, ग्लोसेस्टरशायर नामक स्थान पर हुआ था। उनके पिता पीटर जेम्स रोलिंग रॉल्स-रॉयस नामक एक मशहूर कंपनी में विमान इंजीनियर थे। उनकी माँ एन रोलिंग फ्रेंच तथा स्कॉटिस माता-पिता की संतान थी।[1] कुछ समय बाद ही यह परिवार येट के पास के ही गाँव विंटरबार्न में जाकर बस गया। उनकी प्रारंभिक शिक्षा सेंट माइकल प्रराइमरी स्कूल में हुई। 1982 में रोलिंग ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की प्रवेश-परिक्षा में भाग लिया, लेकिन उन्हें ऑक्सफोर्ड में प्रवेश नहीं मिल पाया और मजबूरन फ्रेंच तथा प्राचीन साहित्य की पढ़ाई के लिए उन्हें एक्सेटर विश्वविद्यालय में बी. ए. में प्रवेश लेना पड़ा अपनी पढाई के सिलसिले में वें कुछ समय पेरिस में भी रही। 1986 में उन्हें बी. ए. डीग्री मिल गई और उसके बाद वें लंदन स्थित एमनेस्टी इंटरनेशनल संस्था में शोध सचिव के रूप में काम करने लगी। कुछ साल लंदन में काम करने के बाद रोलिंग ने मैनचेस्टर में रहने का फैसला किया। इसके बाद अंग्रेजी भाषा के अध्यापन के लिए वें पुर्तगाल चली गई। यहाँ उनकी मुलाकात पुर्तगाल के एक टेलीविजन पत्रकार जॉर्ज अरांतेस से हुई। दोनों की ही दिलचस्पी साहित्य में थी, धीरे-धीरे वें एक-दूसरे के करीब आते चले गए और 16 अक्टूबर 1992 को दोनों ने विवाह कर लिया। विवाह के अगले साल ही जुलाई में उनकी पुत्री जेसिका इजाबेल का जन्म हुआ, लेकिन पारस्परिक वैचारिक मतभेद के कारण यह विवाह ज्यादा नहीं चल पाया और नवम्बर, 1993 में वें एक दूसरे से अलग हो गए। उनके देश इंग्लैण्ड की सामाजिक सुरक्षा इतनी मजबूत है कि बेरोजगारी के कारण राज्य से मिलने वाली आर्थिक सहायता के बल पर वें न केवल अपनी बेटी का पालन पोषण ठीक से कर पाई, बल्कि दुनिया के एक सर्वाधिक लोकप्रिय होने वाले उपन्यास का सृजन भी कर पाई, जिसने उनकी जीवन की दिशा ही बदल दी। 2001 में रोलिंग ने नील माइकल मूरे नामक एक डॉक्टर से दूसरा विवाह कर लिया था। 2005 में उनकी सबसे छोटी बेटी मेकेंजी का जन्म हुआ। रोलिंग “हैरी पॉटर ” प्रकाशित होने से पहले गरीब थीं। उस समय वे बड़े उत्साह से लिखा करती थीं, उनकी कहानी में रोचक और सजीव व्यक्तित्वों का सशक्त वर्णन था।


हैरी पॉटर की शुरुआत
हैरी पॉटर” के 7 ग्रंथों को पढ़कर अच्छी तरह दिखाई देता है, कि कहानी के प्रमुख पात्रों का व्यक्तित्व रोलिंग के जीवन के महत्त्वपूर्ण व्यक्तियों पर आधारित हैं। रोलिंग हमेशा लेखिका रहीं, लेकिन लेखों को बेचना शुरू में असंभव लगता था। 1990 में वे “हैरी पॉटर” लिखने लगीं। उन्होंने कहा, कि एक बार, रेलगाडी के लम्बे सफ़र में हैरी पॉटर ने जन्म लिया। कुछ समय बाद रोलिंग की माता जी की मृत्यु हुई, ऐसे कि पहले उसे रोलिंग ने हैरी पॉटर के बारे में कुछ नहीं बताया था। रोलिंग अपने दर्द को छिपाने के लिए पढ़ने और लिखने में डूब गयी। इस समय अत्यंत मेहनती “हैर्मिओनी” के चारित्र का जन्म हुआ। 1990 के दशक में अनेक प्रकाशकों ने उनके हैरी पॉटर श्रृंखला के पहले उपन्यास को छापने से इनकार कर दिया था। अनेक अस्वीकृतियों तथा निराशाओं के बाद आखिर उनका पहला उपन्यास “हैरी पॉटर एंड द फिलोस्फर्स स्टोन” 1997 में प्रकाशित हुआ। इस उपन्यास ने दुनिया भर में धुम मचा दी। 1998 में जब अमेरिका में इस उपन्यास का दूसरा संस्करण “हैरी पॉटर एंड सोंर्सेरर्स स्टोन नाम से प्रकाशित हुआ तो पाठक इसकी प्रति खरीदने के लिए दुकानों पर उमड़ पड़े थे। इस श्रृंखला में रोलिंग के अब तक सात उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं और वें सभी पाठकों में अत्यधिक लोकप्रिय रहे हैं। अब तक पॉटर उपन्यास के श्रृंखला के सभी उपन्यासों पर फिल्मे बन चुकी है और उन सभी को दुनिया भर में असाधारण सफलता मिली है। उपन्यासों तथा फिल्मों की सफलता ने रोलिंग को एक अरबपति लेखिका में परिवर्तित कर दिया है।
 सन 2004 में फोर्ब्स पत्रिका ने जे.के.रोलिंग का नाम दुनिया में पुस्तके लिखने से अरब पती बने पहले लेखक के रूप में, विश्व कि दूसरी सबसे अमीर मनोरंजक के रूप में घोषित किया। रोलिंग ने इस गणना को विवादित ठहराते हुए कहा है कि, उनके पास संपत्ति तो बहुत है परन्तु वो एक अरब पती नहीं है  इसके साथ ही 2008 के सन्डे टाइम्स में ब्रिटेन के सबसे धनी लोगो की सूची में रोलिंग का नाम 144 स्थान पर था। 2012 में फोर्ब्स पत्रिका ने रोलिंग को सबसे अमीर लोगो की सूची से हटा दिया यह दावा करके कि 160 लाख डॉलर धर्मार्थ में देने और ब्रिटेन के अधिक कर दर के कारण अब वे अरब पती नहीं रहींफरवरी 2013 में बीबीसी रेडियो 4 पर वूमन्स आरके द्वारा जे.के.रोलिंग का आकल न संयुक्तराज की तेरहवी सबसे प्रभावशाली महिला के रूप में किया गया। रोलिंग अब ब्रिटेन की तेहरवी सबसे संपन्न महिला है, ब्रिटेन की महारानी से भी अधिक संपन्न। वे और पुस्तके लिखने का विचार तो नहीं कर रही है परन्तु वे इस सम्भावना को पूरी तरह से खारिज़ भी नहीं करती है। नवम्बर 2009 में हैरी पॉटर एंड सोरसेरे रस्टोनके क्रिस कोलंबस के निर्देशन में फ़िल्मी अनुवाद हुआ। फ़िल्म के निकलने के शुरूआती सप्ताह में ही उसने 93.5 लाख डॉलर कमा कर बॉक्स ऑफिस का रिकॉर्ड तोड़ दिया। हैरी पॉटर श्रृंखलाकी बाकी किताबो नेभी इसी प्रकार अधिकाधिक कमाई की।

लोक कल्याण की भावना

2005 में रोलिंग ने वोलेंट धर्मार्थ संग की स्थापना की जो अपने 1.5 लाख यूरो के वार्षिक बजट का प्रयोग गरीबी और सामाजिक असमानता से लड़ने में करता है  वो पैसा उन संगठनो को भी जाता है जो बच्चो, एक अभिवावक परिवारो, विभिन्न काठिन्य के मरीजों की सहायता करते हैरोलिंग ने कहा था की जब हमे ज़रूरत से ज्यादा मिलता है तो यह हमारा नैतिक उत्तर दायित्व होता है कि हम समझदारी और बुद्धिमता से उसका प्रयोग करे। 2001 में संयुक्त राज के गरीबी विरोधी पूंजी संग्रह समारोह कॉमिक रिलीफने तीन मशहूर लेखको को अपने प्रकाश न के बारें में लेख भेजने को कहा जिसमे रोलिंग का नाम भी था। रोलिंग की दो किताबे- फैंटास्टिक बीस्ट्स एंड वेयर टू फाइं ड देमऔर क़ुइड्डीतच थ्रू द एजेसकी प्रति कृतियां हॉग्वार्ट्स पुस्तकालय में मौजूद है एक अभिवावक परिवारो की रास्ट्रीय समिति के लिए पूंजी जमा करने हेतू 2002 में रोलिंग ने ब्लूमस्बेरी प्रकाशन की काल्पनिक कहानी मैजिकमें योगदान दिया। जनवरी 2005 में रोलिंग बच्चो के मानसिक संस्थाओ में बंदी बिस्तरों के इस्तेमाल पर प्रकाश डालने के लिए बुचरिस्टगई। अपनी संस्था चिल्ड्रेन हाई लेवल ग्रूपका समर्थन करने के लिए उन्होंने द टेल्स ऑफ़ बीडल द बार्डकी एक हस्त लिखित कापी नीलाम की, जो अमेज़नद्वारा 1.95 लाख यूरो में खरीदी गई। जिस पर टिपण्णी करते हुए रोलिंग ने कहा की – यह उन मासूम बच्चो के लिए बहुत मायने रखता है जिन को सहायता की सख्त आवश्यकता है। जुलाई 2012 में लंदन के समर ओलंपिक्स के उद्घाटन समारोह में रोलिंग ने ग्रेट अर्मांड स्ट्रीट चिल्ड्रेन हॉस्पिटलको सम्मान देने के लिए जे.ऍम.बेरी की पुस्तक पीटर पैनसे कुछ पंक्तियाँ पढ़ी। लार्ड वोल्डेमॉर्ट के संस्करण और बाकी बाल किरदारो के प्रति निधित्व से उनका पठन संपूर्ण था।


deepakaneriya

I am a Hindi blogger

Leave a Reply