मेरी प्यारी बिटिया

मेरी प्यारी बिटिया
मत  लेना तू  जन्म इस संसार में 
नौ महीने की मियाद बीत जाने पर
कहीं छिप  जाना कोख की दीवार में
और जाना उस दुनिया में
जहाँ महफूज हो
जहाँ उड़ सको तितली की तरह
जहाँ बह सको पानी की तरह 
जहाँ जी सको परियों की तरह
           मत  लेना तू  जन्म इस संसार में 

आखिर किस किस से लड़ोंगी
इस दुनिया में आकर
कोई  तुम्हे छुएगा 
कोई जबर्दस्ती करेगा 
कोई तुम्हें मानसिक संताप देगा 
कोई पीटेगा 
जब उससे भी मन नहीं भरेंगा 
तो तुम्हे मौत के घाट उतारने से परहेज नहीं करेंगा | 
सच में जमाना बेहिसाब रफ़्तार से बदनीयत बन रहा है | 
            मत  लेना तू  जन्म इस संसार में 
जमाने ने तो पहनावे को गलत ठहराया 
उस जमाने से पूछो 
वो एक साल की गुड़िया 
वो तीन साल की साल की नाजुक परी 
वो पांच  साल की नटखट परी 
ने ऐसा कौन सा 
        गलत पहनावा पहना होगा 
जों जमाने ने उन मासूम बच्चों को भी नहीं छोड़ा 
सोच ही घटिया है पहनाबे की बात करते हो 

जब तुम नहीं रहोगी ” बिटिया”
 यही जमाना देखते देखते बदनसील बन जायेगा  
सोच नहीं बदलोगे 
तो बेटियों को कैसे महफूज करोगे  
         मत  लेना तू  जन्म इस संसार में | 
     

Add caption

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *