इस अंधेरी दुनिया मे

इस अंधेरी दुनिया मे
उम्मीद की किरण से चलो |
       अपने  मान,सम्मान के
       हक़ के  लिए लड़कर चलो |
किसी की पत्नी, बहु , बेटी
माँ की पहचान से नहीं
अपने नाम से चलो | 
      रोने के लिए किसी
     कंधे की जरुरत ना पड़े
                                                                               अपने आँसूओ  को  पोंछकर चलो |  
एक घर से दूसरे घर के
पिंजड़े में कैद ना रहो
उन बंदिशों को तोड़कर चलो |  




किसी की शर्तो पर नहीं
अपने बनाये नियम पर चलो |  
किसी के सपने की लिए नहीं
अपनी मंजिल के लिए चलो |





        
                                                                                     किसी के साथ चलने की आदत मत डालो
                                                                                     इंतजार तुम्हें स्वतंत्र होनें से रोकता है
                                                                                     सतर्कता, अक्लमंदी से अकेले चलो | 
तुम भी खुशी के हक़दार हो
अपनी मुस्कान की खातिर चलो |  



deepakaneriya

I am a Hindi blogger

One thought on “इस अंधेरी दुनिया मे

Leave a Reply