*** राहों में मुश्किलें बहुत है ,
                        फिर भी कही मंजिल की तलाश है |
                  चारों तरफ काँटे – ही – काँटे  है ,
                        फिर भी कही फूल  की तलाश है |
                     दुखो का समंदर है ,
                        फिर भी कही खुशी  की तलाश है | 
                      दिल  में  बहुत सारी इच्छायें  ,
                       आँखों में बहुत सारे सपने है ,
                   कही ये टूटे न एक उम्मीद की तलाश है  ***

deepakaneriya

I am a Hindi blogger

One thought on “

Leave a Reply