जिंदगी में दुःख कितने भी आए 
पर वो बचपन की हँसी साथ लेकर  चलूँगी ” मैं “

भविष्य कितना भी धुंधला दिखें 
वर्तमान लेकर चलूँगी   ” मैं “
महीनों , सालों  की नहीं 
बस फिक्र करुँगी 24 घंटों की  ” मैं “

                                                                                                 


पूरी दुनिया को नहीं जानना मुझे
  पहचाना है अपने आप को                                             

     ए जिंदगी तू खेल मेरी खुशियों से 
मैं भी इरादों की पक्की हूँ  
मुस्कुरना नहीं  छोडूँगी 
हर बंद रास्ते पर 
अपना एक रास्ता बना लूँगी  ” मैं “



इच्छा से कुछ नहीं बदलता 
   निर्णय कुछ बदलता है
लेकिन निश्चय से सब कुछ बदल दूँगी “मैं “


deepakaneriya

I am a Hindi blogger

Leave a Reply