साहस की पहचान

https://www.google.com/search?client=ms-android-xiaomi-rev1&ei=KzwkX-DmLrHTz7sP4IOMqAE&q=deepaKaneriya.blogspot.com&oq=deepaKaneriya.blogspot.com&gs_lcp=ChNtb2JpbGUtZ3dzLXdpei1zZXJwEANQ9zhY9zhglUFoAHAAeACAAeMBiAGpA5IBBTAuMS4xmAEAoAEBwAEB&sclient=mobile-gws-wiz-serp
साहस की पहचान
 हमारे प्रिय  ए पी जे अब्दुल कलामजी  की किताब ” आपका भविष्य आपके हाथ में “
 इस किताब में कलाम जी ने साहस के बारे में और उसकी पहचान के बारे में अलग -अलग तरीके से बताया है
आज में आपको  उनके लिखे हुए , शब्दों में साहस की पहचान के बारे में बताती हूँ 

 ” डर लगने पर भी आगे बढ़कर 
वही करना जो उचित है – यही साहस हैं | 
जिसे डर ही नहीं लगता वह मूर्ख है ,
और जो डर को खुद पर हावी हो जाने देता है 

वह निस्सदेंह कायर है | 
साहस का अर्थ है वह करना जो करने में आपको डर लगता है | “

“मुसीबतों के आगे झुके बिना अगर हम
    बेख़ौफ़ होकर उनके बीच में रास्ता बनाने 
   का फैसला कर लें , तो तमाम रुकावटें खुद ब खुद
   गायब हो जाती हैं |
सही का साथ देना ही साहस की पहचान है | “

“अपनी जिंदगी के दायरे
को बढ़ाना और परिचित
परिस्थितियों से आगे बढ़कर
नए रास्ते खोजना
ही साहस की पहचान है |  “

deepakaneriya

I am a Hindi blogger

Leave a Reply